Shree Krishna Janmashtami 2021- Date, vrat, Pujan vidhi - MANTRAMOL

Shree Krishna Janmashtami 2021- Date, vrat, Pujan vidhi

2021श्री कृष्ण जन्माष्टमी पूजन विधि, पूजन समय और इतिहास ।। Shree Krishna Janmashtami 2021

Shree Krishna janmashtami 2021, हर वर्ष भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष तिथि को बनाई जाती है। भारत वर्ष मे जन्माष्टमी को त्यौहार रूप मे बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है। इस दिन श्री कृष्ण भगवान मे श्रद्धा रखने वाले सब श्रद्धालु व्रत रखते है। और उनका पूजन करते है।  जन्माष्टमी के दिन सब भक्तजन श्री कृष्ण जी के मंदिर जाते है। और श्रीकृष्ण जी के बाल स्वरूप के दर्शन करते है।

Shree Krishna Janmashtami 2021

इस वर्ष जन्माष्टमी 30 अगस्त 2021 दिन सोमवार को मनाया जायगा। इस दिन भगवान कृष्ण आधी रात्रि 12:15 am जन्म लिया था। इस लिए जन्माष्टमी का त्यौहार रात्रि मे मनाया जाता है। और जगरात्रे होते है। इस बार की जन्माष्टमी बहुत खास भी है। क्योंकि शात्रो के अनुसार भगवान श्रीकृष्ण का जन्म रोहिणी नक्षत्र मे हुआ था। और इस बार की जन्माष्टमी रोहिणी नक्षत्र मे ही आ रही है। इस कारण जन्माष्टमी को बहुत विशेष सयोंग बन रहा है।

जन्माष्टमी पूजन, व्रत व शुभ मुहूर्त

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पूजन शुभ मुहूर्त 30 अगस्त 2021 दिन सोमवार सुबह 11:56 से रात्रि 12:47 मिनट तक रहेगा। जन्माष्टमी व्रत 30 अगस्त को रखा जाएगा।

Shree Krishna Janmashtami 2021- Date, vrat, Pujan vidhi

श्रीकृष्ण पूजन मंत्र 

  1. ओम श्री कृष्णयं नम: ।
  2. ॐ श्री माधवायं नम: ।
  3. ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नम:।
  4. ओम श्री नारायणाये नम:।
  5. ॐ श्री लक्ष्मीनारायणाये नम:।
  6. ॐ कृष्णाय वासुदेवाय हरये परमात्मने ।। प्रणतः क्लेशनाशाय गोविंदाय नमो नमः।
  7. ओम नमः भगवते वासुदेवाय कृष्णाय क्लेशनाशाय गोविंदाय नमो नमः।
  8. हरे कृष्ण हरे कृष्ण, कृष्ण-कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम, राम-राम हरे हरे।
  9. ओम क्लीम कृष्णाय नमः।
  10. ॐ श्रीं नमः श्रीकृष्णाय परिपूर्णतमाय स्वाहा।
  11. ॐ देविकानन्दनाय विधमहे वासुदेवाय धीमहि तन्नो कृष्ण:प्रचोदयात
  12. ओम कृं कृष्णाय नमः

Kali Mata kavach path ।। कीलकम स्त्रोतं ।

पूजन विधि Shree Krishna Janmashtami 2021

1. सुबहा स्नान करके शुध्द वस्त्र धारण करे।

2. पूजन की सारी सामग्री एकत्रित कर ले।

3. श्रीकृष्ण जी की प्रतिमा के संमुख ज्योत व धूप लगाए।

4. फिर व्रत का संकल्प करके पूजन करें संकल्प कैसे करते हैं। यहां देखे। 👇

Sankalp kya hota hai ।। संकल्प कैसे करते है।

5. सूर्य देव को जल चढ़ाए।

6. दोपहर 12:00 के बाद श्रीकृष्ण मंदिर जाय।। और बाल गोपाल को झूला झूलाए, फल का भोग लगाए।

7. शिवलिंग पर जल चढ़ाए।

8. मंदिर जा आने के‌ पश्चात जल, फल व चाय, दूध का सेवन करें।

9. जन्माष्टमी के व्रत के दिन बार बार पानी या फल ग्रहण न करे।

10. रात्रि चंद्र देव के दर्शन व जल चढ़ा कर भोजन ग्रहण करे। भोजन बिना प्याज, लहसुन के हो।

Leave a Comment