सिंदूर तिलक वशीकरण मंत्र साधना सम्पूर्ण विधि के साथ | - MANTRAMOL

सिंदूर तिलक वशीकरण मंत्र साधना सम्पूर्ण विधि के साथ |

सिंदूर वशीकरण मंत्र से सिंदूर वशीकरण सिर्फ एक सिंदूर के तिलक से करे अपनी मन चाही स्त्री का वशीकरण।।

 

साधनों आज मैं आपको सिंदूर तिलक वशीकरण मंत्र साधना के बारे मैं बताने जा रहा हूँ। कि आप कैसे सिर्फ एक सिंदूर के तिलक से वशीकरण कर सकते है। बिना किसी के पता लगे, और बिना कुछ कुछ खिलाय पिलाये। मैं आप सब को संपूर्ण विधि के साथ बताने वाला‌ हूँ।

सिंदूर का परिचय

साधकों सिंदूर का हमारी संस्कृति मे बहुत महत्व है। सिंदूर हमारे सनातन धर्म की हर पूजा-पाठ मे इस्तमाल होता है। यह दिखने मे “लाल‌‌ रंग” का होता है। सिंदूर को हिन्दू धर्म की विवाहित स्त्रियाँ अपनी मांग मे धारण करती है। यह विवाहित स्त्री की पहचान है।

सिंदूर तिलक वशीकरण मंत्र साधना

मित्रो आप सिंदूर वशीकरण साधना ! होली, दीपावली, व ग्रहण मे कर सकते है। यह साधना आप दो विधि से कर सकते है। वह दोनो विधि मै आपको‌ आज बताने जा‌‌ रहा हूँ। कि कैसे आप यह साधना सिद्ध कर सकते है।

सिंदूर तिलक वशीकरण साधना मंत्र

ॐ नमो आदेश गुरु का।
सिंदूर की माया।
सिंदूर नाम तेरी पत्ती।
कामाख्या सिर पर तेरी उत्पत्ति।
सिंदूर पढ़ि मैं लगाऊँ बिन्दी।
वश अमुख होके रहे निर्बुध्दी।
महादेव की शक्ति। गुरु की भक्ति।
न वशी हो तो कामरु कामाख्या को दुहाई।
आदेश हाड़ी दासी चण्डी का।
अमुक का मन लाओ निकाल।
नहीं तो महादेव पिता का वाम पढ़ जाये लाग।
आदेश आदेश आदेश

महत्वपूर्ण जानकारी

इस मंत्र मे जहां भी अमुख, या अमुक शब्द इस्तमाल किया गया है। उसके स्थान पर आप‌ जिस भी व्यक्ति को वश मे करना चाहते है। उनका नाम ले। पर जब यह मंत्र आप सिद्ध कर रहे है। तब आप को अमुख और अमुक ही बोलना है। जब आप इस मंत्र का‌ किसी व्यक्ति पर इस्तमाल करना चाहते है। तो अमुख और अमुक के‌ स्थान पर उस व्यक्ति का नाम लेना है।

अधिक जानकारी के लिए यहा क्लिक करे |

पहली विधि

विधि-सर्वप्रथम एक चाँदी की डिब्बी में असली सिन्दूर लेकर छत पर या
किसी खुले स्थान में पूर्णमासी की सारी रात्रि में छोड़ दें। यह इस प्रकार से डिब्बी को
खुली रखें कि इस पर सारी रात चाँदनी पड़ती रहें। सूर्योदय से पूर्व ही इसे उठा लायें
और सिरहाने रखें। सोमवार की रात्रि में दूध में थोड़ी-सी ब्रांडी मिला कर सम्पूर्ण शरीर में
मालिश करें। बालों में भी और चाँद पर भी इसके बाद स्नान कके नैऋत्य कोण की
ओर मुख करके बैठे और दाहिने हाथ की हथेली पर वह डिबिया रखकर 1008
मंत्र का जाप करें। यह आसन र्निवस्त्र होकर लगाया जाता है । तत्पश्चात् आवश्यकता
पड़ने पर इस सिन्दूर का टीका माथे पर लगा जहां भी जाएंगें वहां पर सभी लोग प्रभावित होंगे।

Madanan Mata Sadhana ।। मदानन माता साधना।

दूसरी विधि

आप इस मंत्र को होली, दीपावली, व ग्रहण मे सिद्ध कर सकते है। अगर यह मंत्र आप होली या दीपावली मे सिद्ध करते है। तो आपको रात के 11:00 बजे से लेकर सुबहा के 4:00 तक करना है। देसी घी का दिपक व धूप लगाकर जाप करना है। यदि यह मंत्र आप ग्रहण मे सिद्ध करते है। तो ग्रहण वाले दिन पानी मे नाभि तक खड़े होकर। खुला जाप करना‌ है। जब तक ग्रहण काल समाप्त न हो जाए।

Leave a Comment