Mohammada veer sadhna || महोम्मद वीर (पीर) साधना - MANTRAMOL

Mohammada veer sadhna || महोम्मद वीर (पीर) साधना

महोम्मद वीर (पीर) साधना, Mohammada veer sadhna

आज इस पोस्ट मे हम आपको ” Mohammada veer sadhna ” के बारे मे बताने वाले है। जो एक पैगम्बर है ! और बहुत बड़े वीर है ! और बहुत शक्तिशाली है ! महोम्मद वीर की साधना के बाद आपकी सारी मनोकामना पूर्ण होंगी |

महोम्मद वीर साधना के बारे मे जानकारी

पाठकों महोम्मद वीर एक मुसलमानी पैग़म्बर है ! वैसे तो 1 लाख 80 हजार पैग़म्बर बताये गये हैं ! मोहम्मद वीर उन्ही ने से एक है, ये बहुत ही शक्तिशाली है ! वैसे तो कोई भी पीर पैग़म्बर छोटा बड़ा नही होता। सबका आपना आपना दर्ज़ा है। सब अपने आप मे एक से बढ़कर एक

है ! तो साधना किसी भी पैग़म्बर या पीर की हो आपके भाव पर निर्भर करता है ! की किस भाव से साधना कर रहे हैं ! महोम्मद वीर बहुत ही बलवान है ? अगर आपकी साधना सफल हो जाती है। तो महोम्मद वीर आपकी सारी इच्छाएं पूरी करते हैं। महोम्मद वीर की चौकी आप‌ पर आएगी। और साधना पूर्ण होने पर महोम्मद वीर आपको दर्शन देंगे ! फिर उनसे आप जो चाहे मांग सकते है! महोम्मद वीर की साधना वैसे तो 21 दिन की है। रोज 1 माला यानि 101 बार जाप करे सुबहा और शाम। 

 

शरीर रक्षा मंत्र

बिस्स्मिल्लाहे रहमाने रहीम ! आयतल कुर्शी आजारी पैगम्बर की सवारी ! काँटा सांप बिच्छू को तुझे कसम हैं, सुलेमान पैगम्बर की प्यारी ! 

महोम्मद वीर साधना मंत्र ?

बिस्मिल्‍ला रहिमानिरहीम ! पांच घूंघरा कोट जंजीर जिस परखेले मुहम्मदा वीर ! सवा मन का तीर जिस पर आवे मोहम्मदा वीर ! हाध-पैर की खावे पीर सूखी नदी वहावे नीर नीला घोड़ा नीली जीन जिसपर चढ़े मुहम्मदा वीर ! सवा सेर का पीसा खाय अस्की की खबर लगायेमार-मार करता आवे बांध-बांध करता आवे ! डाकिनी को बांध कुवा-बाबड़ी से लावबो सोती कोलाबो, पीसती को लावो, पकाती को लाबो, जल्दीजावो हजरत इमाम हुसैन की जांघ से निकाल कर लावो, बीबी फातमा केदामन में खोल कर लावो नहीं तो माता का चूखा दूध हराम करे।’ (साधक अपना नाम ले)

 

विधि

किसी भी नौ चंदी जुमे (शुक्रवार के दिन) या वीरवार को शक्ल पक्ष का वीरवार या शुक्रवार से शुरु करे। सबसे पहले एक‌ अच्छा सा स्थान देखे। या एक एकान्त कमरा या मस्जिद या पीर खाने मे भी किया जा  सकता है। या आपके घर मे कमरा हो। फिर एक चौकी लगा ले। उस पर हरे रंग का सवा 2 मीटर कपड़ा बिछा ले। उस पर एक थाली रखे उसमे गुलाब के फूल रखे। और एक सरसों के तेल का दीपक जलाए। पांच अगरबत्तीया लगाए। गुलाब का इत्र यानी सेंट लगाए। कमरे के कोने मे और चौकी पर भी लगाए। उसके बाद खुद पर भी लगा ले।

गुलाब के फूल पर भी लगादेगे।  उसमे आप मिठाई रख ले। मिठाई कोई भी हो। या 5 सफेद बत्तासे रखे। फिर आप पश्चिम की तरफ मुख करके बैठ जाए। लोबान की धुनी दे। फिर आप आपने गुरु मंत्र का जाप कर ले। आपने पितर देव व कुल देवी देवता को स्मरण कर ले।
नगर खेड़े को याद करे। या प्रणाम करे। उसके बाद अपने शरीर की रक्षा के लिए। देह रक्षा मंत्र को पढ़ कर अपनी छाती पर फूंक लगाए। देह रक्षा मंत्र हम आपको बता देगे। उसके बाद अपनी साधना शुरू करे। आपको सुबहा शाम एक एक तसवी या हाथ पर एक सौ एक बार गिन कर जाप करे। तसवी आपको एक सौ एक मनके वाली लेनी है।

साधना विधि 

सफेद या फिर हरी माला या तसवी मिल जाए। आपको हरे या सफेद रंग के कपड़े पहनने है। 21 दिन जाप करना है। महोम्मद वीर उसे पहले ही दर्शन दे देंगे । फिर भी अपना जाप करते रहे 21 दिन है। 21वे दिन आप लोबान से 21 आहुतिया दे सकते हैं। नही तो आपकी

मर्जी है। अगर आपको फिर भी कुछ समझ नही आया तो इस पोस्ट मे हमने वीडियो का लिंक दिया है। आप YouTube पर वीडियो देख सकते। या आप हमे comments करके भी पूछ सकते है।

Leave a Comment