Haikal ki fazeelat ।। हैकल की फ़ज़ीलत

हैकल की फ़ज़ीलते। हैकल क्या होती है ।। Haikal ki fazeelat

 

पाठकों आज हम आपको Haikal ki fazeelat के बारे मे बताना चाहते है। हैकल होती क्या है ? हैकल कैसे रचित हुई थी ? हैकल का पाठ करने से क्या क्या लाभ होते है। हैकल मुस्लिम धर्म से सबंधित है। लेकिन इन्हें सब पढ़ सकते है। हर व्यक्ति इसका पाठ कर सकता है। आपको हैकल का पाठ कैसे करना है। विधि क्या है। कितने दिन करना है। सब बताने वाले है।

Haikal ki fazeelat

Haikal ki fazeelat

इस्लामी ग्रंथों में हैकल की फ़ज़ीलत विस्तारपूर्वक बताई गई हैं ! इनको पढ़ने और इन्हें लिखकर अपने पास रखने से जहां अनेक परेशानियां और मुसीबतें दूर हो जाती हैं ! वहीं ख़ुदा की मेहरबानियां भी हासिल हो जाती हैं ! इससे यह साबित हो जाता है ; कि ये सभी शख्स को हर आफ़त और हर बला से बचाकर, उसे अमन-सुकून, धन-दौलत तथा इज्ज़त-शोहरत प्रदान करते हैं ! इसके अलावा ये मनुष्य को बुराई से दूर रखते हैं, सद्‌कार्यों की ओर लगाते हैं ! और गुनाहों को माफ़ करा देते हैं ।

एक दिन अल्लाह के रसूल मुहम्मदुर्ससूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम मदीना मुनव्वरा की मस्जिद में बैठे हुए थे ! तभी हज़रत जिबराईल अलैहिस्सलाम नाजिल हुए ! उन्होंने कहा अल्‍लाह तआला ने फ़रमाया है, कि इस हफ्त ( सात ) को आप पर नाजिल करता हूं ! जो शख्स इस हफ़्त हैकल को हरेक दिन पढ़ेगा, अल्लाह तआला उसको और उसके मां-बाप को दोज़ख़ के अज़ञाब से आज़ाद करेगा। जिस घर में यह हफ़्त हैकल होगा, उस घर में देव और परी का कभी दखल नहीं होगा । जो इसको अपने साथ रखेगा, वह अचानक मौत तथा आपदा से बचा रहेगा।

ऐ मुहम्मद सल्ल. ! इस हफ्त हैकल को अपने पास रखने वाला शख्स, हमेशा सुर्खरू और बा-इज्ज़त रहेगा। जान निकलते वक़्त मौत की सख्ती उस शख़्स पर आसान होगी । जो व्यक्ति हर दिन इस हफ़्त हैकल को पढ़ेगा और अगर पढ़ना न जानता हो तो लिखवाकर अपने पास रखेगा; उसे 70 हज़ार ख़त्म कलामुल्लाह का, 70 हज़ार शहीदों का, 70 हज़ार हज का, 70 हज़ार मस्जिद तैयार करने का, 70 हज़ार गुलाम आज़ाद करने का, 70 हज़ार आदमियों को रोज़ा-इफ्तार कराने का, 70 हजार हाफ़िज़ों का, 70 हज़ार हाजियों का, 70 हज़ार आलिमों का, 70 हजार इबादत गुज़ारों का, 70 हज़ार फ़रिश्तों का, 70 हज़ार पैगम्बरों का और चारों मुक़रब फरिश्तों का सवाब हासिल होगा। इसमें कोई शक नहीं है।

हैकल-1

बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम ! उईज़ु नफ़्सी बिल्लाहिल अलीयिल अज़ीम. अल्लाहु ला इलाहा इल्ला हुवा अलहसय्युल क़य्यूम ला ताख़ुज़ुहू सिना तुंव्वला नौमल्लहू माफ़िस्समपावाति वमाफ़िल अर्खि मनज़ल्लज़ी ज़ी यशफअ इन्दहू इल्त्ता बिइज्निही यालमू मा बैना ऐदीहिम वमा खूल्फहुम वला युही तुन बिशैइन मिन इल्मिही इल्ला बिमा शा अ व सि अ कुर्सी युहुस्मावाति वल अर्जि वला लऊदुहू हिफ़्जुहुमा वहुवल अलीयुल अज़ीम.

हैकल-2

बिस्मिल्लाहिरहमानिरहीम! उईसु नफ़्सी बिल्लाहिल अलीयिल अज़ीम. इज़ क़ालतिम र अ तु इमरा रब्बि इन्नी नज़र्तु ल क माफ़ी बत्नी मुहररन फ़ त क़ब्बल मिन्‍नी इन्नका अन्तस्समीउल अलीम. सुन्न त मन क़द अर्सलना क़ब्लका मिररुसुलिना वला तज़िदु लिन्नतिना तह्लीला. अक़िमिस्सला त लिदुलू किंश्शम्सि इला ग़ स क़िल्लेलि व कुरआना ल फ़ज्रि कुरआना लफ़ाज़ि काना मशहूदा. व कुर्रब्बि अद्ख़िल्नीमु ख़ ल सिद्किंव्व अख़िरज़्नी मुखज़ सिद्किंव्व ज़अल्ली मिल्लदुन क सुल्तानननसीना.

Haikal ki fazeelat

हैकल-3

बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम! उईज़ु नफ़्सी बिल्लाहिल अलीयिल अज़ीम. आ म नर्रसूलु विमा उन्ज़िला इलैहि मिर्रब्बिही वल मुअमिनू न कल्लुन आमना बिल्‍लाहि व मलाइकनिही व कुतुबिहि व रुसुलिही ला नुफरिंकु बैना अहदिम मिर्रुसुलिही व क़ालू स मिअना व अतअना गु्फ्रा नका रब्बना व इलैक़ल मसीर. ला युक़ल्लि फ़ुल्लाहु नफ़्सन वुसअ हा लहा म क स बत व अलैहा स वत रब्बना ला तुआ ख़िज्ना इन नसीना ओ अख़्त अना रब्बना वला तहमिल अलैना इसरन कमा हमल्तहू अलल्लज़ीना मिन क़ब्लिना रब्बना वला तुहम्मिल नमालता क़तलना बिही वअफु अन्ना वग्फि़र लना वर्हम्ना अन्ता मौलाना फ़न्सुर्न अलल क़ौमिल काफ़िरीन.

हैकल-4

बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम! उईज़ु नफ़्सी बिल्लाहिल अलीयिल अज़ीम. वकुल जा अल हक़्कू व ज़ हक़ल बातिलु इन्नल बाति लकाना ज़हूक़ा. व नुनज्ज़िलु मिनल कुरआनि माहुवा शिफ़ाउंव्वरहमतुल्लिल मुअमिनी नावला यज़ी दुज्जालिमीना इल्ला ख़सारा. वइज़ा अन्अम्ना अलल इंसानि अअर ज़ वना आ बिज़ानिबिही व इज़ा मस्सहुश्शर्स काना यऊसा. कुल कुल्युय्यअमलु अला शा कि ल तिही फ़रब्बुकुम आलमू विमन हुवा
अहदा सबीला. व यसअलूनका अनिर्सूहि कुलिरसूहु मिन अम्रि रब्बी न मा ऊती तुम मिन इल्मि इल्ला कलीला.

Bhairo Baba Satta Sadhna, real sadhna

हैकल-5

बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम ! उईज़ु नफ़्सी बिल्लाहिल अलीयिल अज़ीम. काला रब्बि इन्नी वहनल अज्मु ‘मिन्‍नी वश त अलर्रासु शैबंव्वय लम अकुम बिदुआइ़ क रब्बि शक़ीया. व इन्नी ख़िफ़्तुल मवा लि यामिंव्व राई वकाना तिम र अ ती आक़िरन फ़ हबली मिल्लदुनका वलीया. यरिसुनी व यरिसु मिन आलि याक़ूबा वज्अलहु रब्बि रज़ीया. लक़द सदाक़ल्लाहु रसूलहुरो्या बिल हक़िक्र ल तद्खुलन्नल मस्जिदल हरामा इन्शाअल्लाहु आमिनीना मुहल्लिक़ीन रुऊसकुम व मुक़स्सिरीना ला तख़ाफ़ू न फ़ अलि म मालम तालमू फ़जअल मिनदूनि ज़ालिका फ़त्हन क़रीबा.

Nathiya mai sadhana, real gyan in hindi

हैकल-6

बिस्मिल्लाहिरहमानिरहीम! उईज़ु नफ़्सी बिल्लाहिल अलीयिल अज़ीम. कुल ऊहिया इलय्या अन्नहुम तमा अ न फ़ रुम मिनल जिन्नि फ़क़ालू इन्ना समिअना कुरआनन अज़ाबा. लहदी इलर्रुशि फ़ आमन्ना बिही वलन्नुशिरका बिरब्विना अहदा. व अन्नहू तआला जदद रब्बिना मत्तख़ ज़ साहिबातंव्व ला वलादा. व॑ अन्नहू का यकूलु सफ़ीहुना अलल्लाहिं शताता.

Ghar kilne ka shabar mantra, in hindi

हैकल-7

‘बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम! उईजु नफ़्सी बिल्लाहिल अलीयिल अजीम. व इंय्याकादुल्लज़ी व क फ़रुल युज्लिकूना क बिअब्सारिहिम लम्मा समिउज्ज़िका व यकूलूना इन्नहू लमज्नून. वमा हुवा इल्ला ज़िकुल्लिल आलमीन

Leave a Comment

error: Content is protected !!