Sadhana mein siddhi kyo nhi milti, kaise mile success. - MANTRAMOL

Sadhana mein siddhi kyo nhi milti, kaise mile success.

Sadhana mein siddhi kyo nhi milti, साधना मे सफलता कैसे प्राप्त करें।

 

पाठकों आज हम आपको ” Sadhana mein siddhi kyo nhi milti “, के कारण बताने वाले हैं ! आपको साधना में सफलता क्यों नहीं मिलती ! बहुत मेहनत करने के पश्चात भी आपको सफलता क्यों नहीं मिलती ! आज हम आपको कुछ उपाये बता रहे हैं ! इन्हे करने के पश्चात आपको हर साधना में सफलता मिलेगी |

Sadhana mein siddhi kyo nhi milti

Sadhana mein siddhi kyo nhi milti

आप बहुत सारी साधनाएं करने का‌ प्रयास कर चुकें‌ होते है। किंतु फिर भी सफलता नही मिलती इसके‌ क्या कारण हो सकते है। आखिर इतनी मेहनत करने के बाद सफलता क्यों नही मिलती। इतने प्रयासो के बाद भी हम असफल हो जाते है। और आपको बहुत दुःख होता है। विशवास भी टूट जाता है।

साधना मे अनुभव नही होता

आपको साधना के समय किसी भी तरहा का अनुभव नही होता। जिसके कारण आप साधना को बीच में भी छोड़ देते है। कुछ लोग साधना को पूरा भी कर देते है। फिर भी सफलता नही मिलती। आज हम आपको बताने जा रहे है। कि साधना मे कैसे जल्द सिद्धि प्राप्त कर सकते है। आपको कुछ मंत्र भी बताउगा। पोस्ट को अंत तक पढ़े।

साधना मे असफलता के कारण

पाठकों साधना मे असफलता के काफी कारण हो सकते है। किंतु कुछ कारण मै आपको बताने जा रहा हूं।

1. मुख्य कारण होता है। गुरु के बिना साधना करना।
2. साधना से पूर्व अपने पित्तरों, कुली देवी देवताओं को स्मरण न करना।
3. साधना के लिए एक कमरा देखले। उस कमरे मे कोई आता जाता न हो।
4. साधना गुप्त तरिके से करें।
5. बिना गुरु आज्ञा साधना करना।
6. साधना का ज्ञान प्राप्त किये बिना साधना करना।
7. माता-पिता व पत्नी का अपमान करना।
8. क्रोध व ईशा करना।
9. काम वासना अधीन होकर स्त्री को बुरी दृष्टि से देखना।
10. साधना के नियम भंग करना।
11. बिना तैयारी के साधना करना।
12. मंत्रो का गलत उचारण करना।
13. मंत्र जाप की संख्या पूरी न होना।
14. गलत चित्र देखना।
15. साधना के देवता पर श्राद्ध, विशवास न रखना।

साधको अगर आप इन सब बातो का ध्यान रखते है। तो आपकी साधना को सफल होने से कोई नही रोक सकता।

साधनाओं मे शीध्र सफलता के उपाय

1. साधना आरम्भ करने से पूर्व गणेश भगवान का पूजन अवश्य करें।
2. साधना आरम्भ करने से पूर्व संकल्प करें।
3. अपने पित्तर देवता का पूजन व ध्यान करें।
4. अपने कुल देवी देवताओं का पूजन व ध्यान भी अवश्य करें।
5. नगर खेड़े का भी ध्यान करें।

6. साधना करने से पहले अपनी सुरक्षा का ध्यान जरूर रखे।
7. साधना शुरु करने से पहले गुरु पूजन व गुरु मंत्र का‌ जाप‌ करें।
8. दोस्तों अगर आप कोई भी साधना करना चाहते है। बिना गुरु के न करें। आपके पास गुरु मंत्रा होना बहुत जरूरी है।
9. साधना का एक समय तय कर लीजिए। आपको रोज उसी समय साधना आरंभ करनी होगी।
10. आप हिन्दू धर्म से सबंधित साधना करते है। तो मुख पूर्व-पश्चिम दिशा की तरफ करे। अगर मुस्लिम धर्म से संबंधित साधना करते है। तो मुख पश्चिम दिशा की तरफ ही करे।
11. पाठको यदि आप साधना देवियों की करते है। तो मुख उतर दिशा की तरफ करे।

पाठको यदि आप कमजोर दिल के है। तो कोई भी साधना को सोच समझकर करें। साधना को बींच मे न छोड़े। यदि साधना के बींच आपको कोई परेशानी या विध्न आता है। तो गुरु आज्ञा से साधना बीच मे रोक सकते है। आदेश

हिन्दू धर्म की साधनाएं

साधको यदि आप हिन्दू धर्म की साधनाएं करते है। तो साधनाओं सिद्धि प्राप्त करने के कुछ मंत्र बता रहा हूं।

साधना में सफलता के मंत्र

1. ॐ जय श्री हरि (जाप संख्या 21)
2. हरि ॐ हरिपुरी (जाप संख्या 21)
3. ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नम: (जाप संख्या 21)

4. ॐ आई कली पुरू सिध्देश्वरी अवतर-अवतर स्वाहा (अपना नाम ले) ॐ दशांगुली भीन्दलि। विरुड हारि मैरुण्ड-भैरवी विधाराणी। रोला बन्ध‌। मुष्टि बन्ध। बाण बन्ध। कृत्य बन्ध। रूद्र बन्ध। नेख बन्ध। ग्रह बन्ध। प्रेत बन्ध। भूत बन्ध। यक्ष बन्ध। कंकाल बन्ध। बेताल बन्ध। आकाश बन्ध। पूर्व-पश्चिम उत्तर-दक्षिण सर्व दिशा बन्ध। ये और ये आछि कह। हस-हस अवतर-अवतर। दशा विप्रा-राणी दशांगुलि शातास्त्र बंदिनी। वैदसि हूँ फट् स्वाहा। (साधक अपना नाम‌ ले) ॐ जाप संख्या 7 बार।

5. गुरु सठ गुरु सठ गुरु है, वीर गुरू साहब सुमरो बड़ी भांत। सिंगी ढोरों बन कहों मन का ॐ करतार। सफल गुरु को हर भजै, घट्टा पकर उठे जाग चेतना संभर श्री परम हंस। (जाप संख्या 7 बार)
6. ॐ काली घाटे काली मां। पतित पावनी काली मां। जवा फूले। स्थरू जले। सेई जवा फूल मे सीआ बेड़ाये। देवीर अनुर्वले। ऎही होत करे विजा होइवे। काली का चंडीर आसे। (जाप संख्या 7 बार)

पाठकों ये कुछ मंत्र है। जो साधना मे शीध्र सफलता दिलाते है। जो पहले 1, 2, 3 के स्थान पर मंत्र है। आप सिर्फ इनका भी जाप कर सकते है। 4, 5, 6 के स्थान पर है। इन तीनो मंत्रो का जाप कर सकते है। आप चाहो तो सब का जाप कर सकते है।

मुस्लिम धर्म की साधनाएं 

साधको अगर आप मुस्लिम धर्म से संबंधित साधना करते है। तो साधना मे शीध्र सफलता प्राप्त करके के कुछ अम्ल बता रहा हूं।

दरूद शरीफ पढ़े।

1.अस्सलाम वालेकुम रहमतुल्लाह व बरकातहू
2.अलहमदु लिल्लाहि रब्बिल आलमीन,वस्सलातु वस्सलामु अला आलिहि व असहाबिहि अजमईन
3.अल्लाहुम्म सल्ले अला मुहम्मदिवं व अला आलि महुम्मदिन कमा सल्ले त अला इब्राहीम व अला आलि इब्राहीम इन्न क हमीदुम्मजीद. अल्लाहुम बारिक अला मुहम्मदिवं व अला आलि मुहम्मदिन कमा बारक त अला इब्राहीम व अला आलि इब्राहीम इन्न क हमीदुम मजीद।

यह तीन दरूद शरीफ है। इनमे से जो आपको सही लगे। आसान लगे उसे याद करलो।

साधना में रक्षा घेरा करने के अम्ल

1.बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम
अल्लाहु ला इलाहा इल्लाहु अल हय्युल कय्यूम ला तअखुजुहु सिन्नतुं वला नौम लहू मा फ़िस्सामावाती व मा फिलअर्द मन जल्लज़ीय यश्फउ इन्दहू इल्ला बीइज़्निह यअलमु मा बयना अयदिहिम वमा खल्फहूम वला युहीतुना बिशयइम्मीन इलमिहि इल्ला बीमा शाअ वसीआ कुर्शिययुहुस्समावाती वल अर्द वला यउदुहु हिफ्जुहुमा वहुवल अलियुल अज़ीम सदकल्लाहुल अज़ीम

2.बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम
दोआ आयतल कुर्सी बन्दन कोरान , बाहिरे – भीतरे सुब्हान , लोहे की कोठरी , ताम्बे का किवाड़ , सामने की छड़ी पैगम्बरेर बाड़ी , अमुकेर शरीर र दिनेर चारि पहर , रातिर चारि पहर किन्छु नहिं देखी खाली , बहके हक लाएलाहा इल्लल्लाह महम्मदुर रसूलल्लाह ।

ये सुरक्षा घेरा मंत्र है। मैंने दो मंत्र बताय है। जो भी आपको आसान व सही लगे। उसे याद कर लेना।
उसके बाद सूरह इख्लास, सूरह कौसर मे से कोई भी एक सूरह पढ़े ।

Bhairo Baba Satta Sadhna ।। भैरों बाबा सट्टा साधना

Sadhana mein siddhi kyo nhi milti

सूरह इख्लास

बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम
कुल हुवल लाहू अहद, अल्लाहुस समद ,लम यलिद वलम यूलद, वलम यकूल लहू कुफुवन अहद

Madanan Mata Sadhana ।। मदानन माता साधना।

सूरह कौसर

बिस्मिल्लाहि अर्रह्मान निर्रहीम
इन्ना अअतौना कल कौसर, फसल्लीलि रब्बिक वनहर, इन्न शानीअक हुवल अबतर

यह सब पढ़ने के बाद दुआ करे और साधना शुरू करें।

मित्रों साधना कोई भी करें। पर नियम व परहेज का सब मे पालन करना है।

Nazar bandi mantra sadhana,100% success

साधना के नियम व परहेज

1. ब्रह्मचर्य व्रत का पालन करने।
2. प्याज लहसुन का सेवन न करे।
3. मांस, मदिरा का सेवन न करे।
4. माता-पिता का आदर करे।
5. अपनी पत्नी का अपमान न करे।
6. किसी भी स्त्री को बुरी दृष्टि से न देखे।
7. गलत भाषा का इस्तमाल न करे।
8. किसी से भी लडाई झगड़ा न करे।
9. किसी से भी ईर्ष्या द्वेष न करे।
10. रोजमाता पिता के पैर स्पर्श करे।

2 thoughts on “Sadhana mein siddhi kyo nhi milti, kaise mile success.”

Leave a Comment